fbpx

IASbaba’s TLP – 2020 Phase 1: UPSC Mains General Studies Questions[11th Nov,2019] – Day 26

  • IASbaba
  • November 11, 2019
  • 0
TLP-UPSC Mains Answer Writing
Print Friendly, PDF & Email

IASbaba’s TLP – 2020 Phase 1 : UPSC Mains General Studies Questions[11th Nov,2019] – Day 26

Archive

Hello Friends,

Welcome to  IAS UPSC, TLP- 2020, Day 26. Questions are based on General Studies Paper 2, Indian Polity

Click on the links and then answer respective questions! 


1. Examine the significance of parliamentary debates in a representative democracy like India. Would you agree that the standards of Indian Parliament as the temple of democracy has declined in the recent years? Critically examine.

भारत जैसे प्रतिनिधि लोकतंत्र में संसदीय बहसों के महत्व का परीक्षण करें। क्या आप सहमत होंगे कि हाल के वर्षों में लोकतंत्र के मंदिर के रूप में भारतीय संसद के मानकों में गिरावट आई है? समालोचनात्मक जांच करें।


2. What is the role and mandate of the Foreign Affairs Committee of the Parliament. Recently the government decided to end the tradition of opposition party chairing the committee. What are your views on this?

संसद की विदेश मामलों की समिति की भूमिका और जनादेश क्या है। हाल ही में सरकार ने विपक्षी दल द्वारा समिति की अध्यक्षता करने वाली परंपरा को समाप्त करने का निर्णय लिया। इस पर आपके क्या विचार हैं?


3. Why are political defections a threat to democratic political processes? Are there constitutional and legal safeguards against political defections? Examine.

राजनीतिक दलबदल लोकतांत्रिक राजनीतिक प्रक्रियाओं के लिए खतरा क्यों हैं? क्या राजनीतिक दलबदल के खिलाफ संवैधानिक और कानूनी सुरक्षा उपाय हैं? जांच करें।


4. Not many private members bills have been passed in the history of the Indian Parliament. What does this suggest? Do individual voices get stifled by a majoritarian discourse? Critically examine.

भारतीय संसद के इतिहास में कई निजी सदस्यों के बिल पारित नहीं किए गए हैं। इससे क्या पता चलता है? क्या एक व्यक्ति विशेष की आवाज बहुमत के प्रवचन से डाब जाती है? समालोचनात्मक जांच करें।


5. In the light of the changing parliamentary dynamics, the role of the Speaker must be reassessed and recalibrated to make parliamentary proceedings more effective and efficient. Comment.

बदलती संसदीय गतियों के आलोक में, संसदीय कार्यवाहियों को अधिक प्रभावी और कुशल बनाने के लिए अध्यक्ष की भूमिका को पुन: सुनिश्चित और पुनर्गठित किया जाना चाहिए। टिप्पणी करें।

For a dedicated peer group, Motivation & Quick updates, Join our official telegram channel – https://t.me/IASbabaOfficialAccount

Search now.....