fbpx

Day 65 – Q 2.

  • IASbaba
  • December 25, 2020
  • 0
Ethics Theory, GS 4, TLP-UPSC Mains Answer Writing
Print Friendly, PDF & Email

2. You have joined as the Director of Operations in a government department. After joining the office, you start getting signals from your colleagues and subordinates that your’s is a plum posting. Your predecessors have made fortunes out of this post and you are lucky to have got this position without actually even having bribed the superiors. They also start sharing ideas on how to extract quick fortunes by misusing your powers. Being an honest officer, you squarely refuse the ideas and tell them you have no such intentions. Within a week, you are called by your reporting officer who ridicules you for being naive and stupid for having refused to earn good money. He tells you that he is fine with your honesty though and that you are free to choose your saintly path. However, you must keep your mouth shut and don’t interfere with the processes already defined and established by your predecessors. He also threatens that you shall be shunted to a remote location if you don’t follow his directions. 

How would you respond to this situation? Don’t you think being honest doesn’t only mean non-participation in corrupt activities but also standing firm against them? But if the entire system is against you and forcing you to follow suit, what are the options available to you? Which one would you choose and why? Substantiate.

आप एक सरकारी विभाग में परिचालन निदेशक के रूप में शामिल हुए हैं। कार्यालय में शामिल होने के बाद, आपको अपने सहयोगियों और अधीनस्थों से संकेत मिलना शुरू हो जाता है कि आपकी एक लाभदायी पोस्टिंग है। आपके पूर्ववर्तियों ने इस पद से काफी पैसे कमा लिया है और आप भाग्यशाली हैं कि आपको यह पद प्राप्त हुआ है। वे आपकी शक्तियों का दुरुपयोग करके पैसे कमाने तरीके पर विचार साझा करना शुरू करते हैं। एक ईमानदार अधिकारी होने के नाते, आप विचारों को स्पष्ट रूप से अस्वीकार करते हैं और उन्हें बताते हैं कि आपके पास ऐसा कोई इरादा नहीं है। एक सप्ताह के भीतर, आपको अपने रिपोर्टिंग अधिकारी द्वारा कॉल किया जाता है, जो आपको अच्छे पैसे कमाने से मना करने के लिए भोले और मूर्ख होने का उपहास करता है। वह आपको बताता है कि उसे आपकी ईमानदारी से कोई समस्या नहीं है और आप अपना पथ को चुनने के लिए स्वतंत्र हैं। हालाँकि, आपको अपना मुंह बंद रखना होगा और अपने पूर्ववर्तियों द्वारा पहले से निर्धारित प्रक्रियाओं के साथ हस्तक्षेप नहीं करना होगा। वह यह भी धमकी देता है कि यदि आप उसके निर्देशों का पालन नहीं करते हैं तो आपको दूरस्थ स्थान पर भेज दिया जाएगा।

आप इस स्थिति पर कैसे प्रतिक्रिया देंगे? क्या आपको नहीं लगता कि ईमानदार होने का मतलब केवल भ्रष्ट गतिविधियों में गैरभागीदारी नहीं है, बल्कि उनके खिलाफ दृढ़ रहना भी है? लेकिन अगर पूरी प्रणाली आपके खिलाफ है और आपको भी स्थापित प्रक्रिया का पालन करने के लिए मजबूर कर रही है, तो आपके पास क्या विकल्प उपलब्ध हैं? आप किसे चुनेंगे और क्यों? पुष्टी करें।

For a dedicated peer group, Motivation & Quick updates, Join our official telegram channel – https://t.me/IASbabaOfficialAccount

Subscribe to our YouTube Channel HERE to watch Explainer Videos, Strategy Sessions, Toppers Talks & many more…

Search now.....